about_img2
सामान्य जानकारी

About Panchayati Raj Parishad

पंचायती राज व्यवस्था में 2,55,473, ग्राम पंचायत, 6,775 क्षेत्र पंचायत, और 654 जिला पंचायत आते हैं। पंचायती राज व्यवस्था आम ग्रामीण जनता की लोकतंत्र में प्रभावी भागीदारी का सशक्त माध्यम है। 73वाँ संविधान संशोधन द्वारा एक सुनियोजित पंचायती राज व्यवस्था स्थापित करने का मार्ग प्रशस्त किया गया है। 73वां संविधान संशोधन अधिनियम के लागू होते ही सरकार द्वारा प्रदेश के पंचायत राज अधिनियमों अर्थात् पंचायत राज अधिनियम-1947 एवम् क्षेत्र पंचायत तथा जिला पंचायत अधिनियम-1961 में अपेक्षित संशोधन कर संवैधानिक व्यवस्था को मूर्तरूप दिया गया। सरकार द्वारा वर्ष 1995 में एक विकेन्द्रीकरण एवं प्रशासनिक सुधार आयोग का गठन किया गया था जिसके द्वारा की गई संस्तुतियों के अध्ययनोंपरान्त तत्कालीन कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में गठित उच्च स्तरीय समिति (एच.पी.सी.) द्वारा वर्ष 1997 में 32 विभागों के कार्य चिन्हित कर पंचायती राज संस्थाओं को हस्तान्तरित करने की सिफारिश की गयी थी। सरकार संवैधानिक भावना के अनुसार पंचायती राज संस्थाओं को अधिकार एवं दायित्व सम्पन्न करने के लिए कटिबद्ध है। पंचायती राज व्यवस्था का संक्षिप्त इतिहास (ग्राम पंचायतें अतीत से वर्तमान तक) :-

Read More

Latest News

Balwant Rai Mehta Committee

As we read above, the Community Development Programme was formulated to provide an administrative framework through

Santhanam Committee:1963

The Balwant Rai Mehta Committee was followed by the Santhanam Committee.

Ashok Mehta Committee:1977

One of the major issues in context with the PRIs was that it got dominated by the privileged

Our Client Say!